स्वामी दयानन्द सरस्वती

स्वामी दयानन्द सरस्वती

स्वामी दयानन्द सरस्वती का जन्म 12 फरवरी 1824 मोरबी (मुम्बर्इ की मोरबी रियासत के पास काठियावाड़ क्षेत्र ) जिला राजकोट गुजरात में हुआ था उनके पिता का नाम करशन जी लालजी तिवारी और मां का नाम यशोदाबार्इ था। उनके पिता एक कर-कलेक्टर होने साथ ब्राहमण परिवार के अमीर और प्रभावशाली व्यकित थे। दयानन्द सरस्वती का असली नाम मूलशंकर था और उनका प्रारम्भिक जीवन बहुत आराम से बीता। आगे चल कर एक पंडित बनने के लिए वे संस्कृत, वेद, शास्त्रो व अन्य धार्मिक पुस्तको के अध्ययन में लग गये।

उनके माता पिता ने उनका विवाह किशोरावस्था के प्रारम्भ में ही करने का निर्णय किया, लेकिन बालक मूलशंकर ने निश्चय किया कि विवाह उनके लिए नही बना है और वे 1846 में सत्य की खोज में घर से निकल पड़े। महर्षि दयानन्द ने चैत शुक्ल प्रतिपदा संवत 1932 सन 1875 को गिरगांव मुम्बर्इ में आर्य समाज की स्थापना की। स्वधर्म, स्वभाषा, स्वराष्ट्र स्वसंस्कृति और स्वदेशोन्नति के अग्रदूत स्वामी दयानन्द जी का शरीर 30 अक्टूबर 1883 में दीपावली के दिन पंचतत्व में विलीन हो गया।

Administration

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था

Read More
Background Image

स्वामी दयानन्द सरस्वती

महर्षि दयानन्द ने चैत शुक्ल प्रतिपदा संवत 1932 सन 1875 को गिरगांव मुम्बर्इ में आर्य समाज की स्थापना की।

Read More
Background Image

प्राचार्य की कलम से ....

मानव सभ्यता संस्कृति का विकास तथा आधुनिक तकनीकी क्रानित शिक्षा के परिणाम है।

Read More
Facebook
Google+
Contact Us
  • Address -KHAIPAR ROAD, MARDAN NAKA,
    BANDA (U.P.)
  • E-mail :info@rgdcollege.org
  • Phone No. - 05192-225221
  •  
  •  
  •  
  •